ओनलाईन फोर्म भरते समय आखरी में दीखता विचित्र चित्र क्या हें ?

ओनलाईन फोर्म भरते समय आखरी में दीखता विचित्र चित्र क्या हें ?

कम्प्यूटर के  सामने बैठते ही सबसे पहले  ईन्टरनेट चालू करना और सबसे पहले अपने मेल चेक करना सही हेना ! अगर ओफिस का  काम करे तब भी चलो सबसे पहले ई-मेल तो चेक कर लू,  ऐसा मन में ख्याल आही जाता हें. और बाद में तो बस.. ई-मेल चेकींगकी  साथ जंक ई-मेईल को भी  उखाड़ फेकने में लग जाते हें… ऐसा लगभग सभी युझर्सं करते हें. और ये  स्वाभाविक हें,..!  

         ई-मेल उपरसे  याद आया की जब भी आप रजीस्ट्रेशन अथवा कोई दुशरी माहिती के लिए ओनलाईन फोर्म भरते हें. तभी आपको फोर्मकी आखिर में एक अटपटा आड़े तिरछे विचित्र आड़े तिरछे अक्षरों वाला चित्र ही ‘केप्चा’ (CAPTCHA) हें.

अक्षरों के चित्रवाले  बोक्स में दीखते शब्द को भरना होता हें जिसे बड़े धयान से देखना पड़ता हें … कोनसा चित्र ख्याल आया ? 





     ओनलाईन कोई भी  रजीस्ट्रेशन फोर्मकी आखरी अटपटा आड़े तिरछे अक्षरों और  विचित्र दीखता  पिक्चर पहेली बार फोर्म भरते युझरको सोचने पर मजबूर कर देता हें. और ऐसे युझर्स जो बहुत बार इस फॉर्म को भर चुके हो, उने भी यह किस लिए भर रहे हें उसकी जानकारी नहीं होती हें. यह देखता आड़े तिरछे अक्षरों वाला  चित्र ‘केप्चा’ (CAPTCHA) हें. जिसका फुल फोम हें  Completely Automated Public Turing test to tell Computers and Humans Apart जो एक प्रकारका  चेलेंजीग टेस्ट हें.  जोकि संपूर्णतह कम्प्यूटर द्वारा ओटोमेटीकली सर्वरमेसे चेलेजींग पिक्चर्स जारी करने में आता हें.  जिसे स्वयं कम्प्यूटर भी पढ़ नहीं सकता, पर मानवीय दिमाग के लिए सरल होता हें.

      यह प्रोग्राम यु.एसकी प्राईवेट रिसर्च केरनेजी मेलोन युनि. ने  बनाया हें. CAPTCHA बोक्स भरने से ख्याल आता हें की  कम्प्यूटरकी सामने कोई व्यक्ति हें.  बल्कि  कोई हेकर्स नहीं, और वास्तव में  फोर्म भर रहा हें. वेरीफेकिसन के लिए याहु, जीमेल  या दूसरी वेबसाईटमें  ईमेल पासवर्ड दो या तिन से अधिक बार गलत प्रयाश करने पर तुरंत ही आपको केप्चा का चित्र दिखेगा जो आपको  भरना ही पड़ता हें. जिससे ख्याल आता हें की कोई हेकर्स कम्प्यूटर द्वारा डायरेक्ट आपकी माहिती चोरी तो नही कररहा हें!  केप्चाको  Optical Character Recognition (OCR) जो स्केन किये हुए  शब्दको  केरेक्टरमें  बदल देता हें वो भी ठीक रीत से पढ़ नहीं पाता हें.



CAPTCHA का बोक्स भरना अनिवार्य क्यों  हें?

> माहिती भरनेवाला वास्तव में इन्सान हें उसकी जाँच के लिए 
> ब्लोगमें होने वाले स्पेम रोकने के लिए 
> वेबसाईट पर होने वाले बोगस रजीस्ट्रेशन रोकने के लिए 
> ओनलाईन बोगस पोल रोकने के लिए 
> पासवर्ड हेक के लिए होते डीक्शनरी एटेकको रोकने के लिए 
> कुछ वेबसाईट जिसे सरलतासे ढूंढ़ न शके उसके लिए सर्च इंजन के  बोट्स से बचने 
> माहिती चुराने वाले और स्पेमर्ससे  बचने के लिए 


आपकी वेबसाईट या ब्लोगमें  हेकींग और स्पेमना के आतंक से बचने केप्चा के लिए  http://recaptcha.net/ परसे मुफ्त में प्राप्त कर सकते हें. और इस विषय में अधिक जानकारी उपलब्ध हें. आज लगभग सभी वेबसाईट CAPTCHA का उपयोग करके सलामत हें. 

2 comments:

Dr Varsha Singh ने कहा…

A meaningful and interesting knowledge for new bloggers.

Many-many thanks and congrats

Your hearty welcome on my blogs.

बी एन शर्मा ने कहा…

एक निवेदन

महोदय मैंने तिन सालों कि मेहनत से गीता का उर्दू कविता देवनागरी में में (मंजूम)अनुवाद किया है और एक एक अध्याय अपने ब्लॉग में प्रकाशित कर रहा हु ,इसमे कुछ उर्दू शब्द लीगों को अपरिचित से लगे ,इसलिए लोग आखिर में एक उर्दू -हिंदी शब्दकोश देने की मांग कर रहे हैं .क्या कोई ऐसी विधि है जिस से हिंदी शब्दों को वर्ण क्रम के अनुसार अरेंज किया जा सके जैसे अंग्रेजी में एक्सल में होता है .जिसने words को Alphabetically arrange किया जा सकता है .यदि किसी को पता हो तो कृपया मेरे मेल पर सूचित करने की कृपा करें

बी.एन.शर्मा .

ब्लॉग का नाम -गीता सरल

http://geeta-urdu.blogspot.com/

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
| More

हिंदी में लिखें

विजेट आपके ब्लॉग पर