अब खनकाइए डेढ़ सौ रुपये का सिक्का!


   हाल ही में रिजर्व बेंक ऑफ़ इंडिया ने १५० रु. का सिक्का जरी किया हें यह सिक्का रविंद्रनाथ टैगोरजी की १५० वि जयंती के उपलक्ष  पर जारी किया हें  इसे कोलकाता स्थित भारत सरकार के टकसाल में बनाया गया है 

यह सिक्का 35 ग्राम का है, इसमें 50 पर्सेंट चांदी, 40 पर्सेंट तांबे के अलावा पांच-पांच पर्सेंट निकिल जिंक का इस्तेमाल किया गया हैइस सिक्के के ऊपरी हिस्से में अशोक चिह्न के अलावा ' सत्यमेव जयते ' दर्ज हैकुल मिलाकर ऊपरी हिस्सा अन्य सिक्कों जैसा ही हैमगर पिछले भाग पर रवींद्रनाथ टैगोर की फोटो हैसाथ ही उनकी 150 जयंती का जिक्र किया गया है 

३५ ग्राम का सिक्का और उसमे ५० पर्सेंट सिल्वर है. इसका मतलब १७. ग्राम सिल्वर. आज के सिल्वर के भाव के हिसाब से तो इसमे १५० से ज़्यादा का माल है.   १७. ग्राम सिल्वर का दाम 775 रु
बनता है.  


इस  डेढ़ सौ रुपये के सिक्के का व्यास 40 मिलीमीटर हैरिजर्व बैंक की स्थापना के 75 वर्ष पूरे होने पर 75 रुपये और कॉमनवेल्थ गेम्स पर 100 रुपये का सिक्का जारी किया जाएगाइतना ही नहीं 10 रुपये का पॉलीमर नोट भी जल्दी जाएगा

ये सिक्के अहमदाबाद में जारी होने पर २३१० रुपये प्रति सिक्के के हिसाब से बीके  और इसकी अग्रिम बुकिंक  २००० हजार लोगों ने कराई हेंवेसे यह सिक्का भारत में बहुत जगह  जारी किया गया हें



 वर्ष १९७२ में भारतीय रिजर्व बैंक ने देश की स्वतंत्रता की २५वीं साल गिरह के मौके पर १० रुपये, ५०पैसे  के सिक्के के २०० विशेष सेट जारी किये थे जो की आज तक बहुत से लोगो ने एक बार भी नहीं देखा होगा 

वैसे मैंने भी बेंक में पता किया तो बेंक स्टाफ ने कहा के 150 रु. का सिक्का तो मैंने भी नहीं देखा 
हे. कही से मिले तो जरुर बताना क्या आप ने देखा हे अपने राय जरुर दे.

7 comments:

neel pardeep ने कहा…

इन्हें को-मेमोरेतिव कहते हैं .सिक्को के संग्रह की एक अलग दुनिया है .में भी इसमे उलझा हूँ
प्रदीप नील www.neelsahib.blogspot.com

रामपुरी सम्राट श्री राम लाल ने कहा…

पता नहीं कभी देखेंगे भी या नहीं .............

हरीश सिंह ने कहा…

आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , हिंदी ब्लॉग लेखन को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सार्थक है. निश्चित रूप से आप हिंदी लेखन को नया आयाम देंगे.
हिंदी ब्लॉग लेखको को संगठित करने व हिंदी को बढ़ावा देने के लिए "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की स्थापना की गयी है, आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
डंके की चोट पर

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

स्वागत है आपका हिन्दी ब्लाग जगत की इस मनोरम दुनिया में...

मनोरंजक चित्र, शिक्षाप्रद लघुकथाएँ और उत्तम विचारों से परिपूर्ण जिन्दगी के रंग में देखिये-
निरन्तरता का महत्व (लघुकथा)

निरोगी शरीर सुखी जीवन का आधार : स्वास्थ्य सुख में देखिये-
बेहतर स्वास्थ्य की संजीवनी- त्रिफला चूर्ण

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

शुभागमन...!
कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । प्रमाण के लिये आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का माउस क्लिक द्वारा चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...

नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.

दूर रहें इस सोच से - मुझसे नहीं होगा !

चैतन्य शर्मा ने कहा…

बहुत बढ़िया जानकारी ..... हमें तो सिक्के ही मिलते हैं.... अब बात बनेगी...
चैतन्य का कोना

राजीव नन्दन ने कहा…

achchhi jaankaari

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
| More

हिंदी में लिखें

विजेट आपके ब्लॉग पर