एक नजर– ईन्टरनेटकी सफल गतिशीलता पर

    ईन्टरनेटकी मायाजाल में आज  पूरा विश्व उलजा है. किसी भी  व्यक्तिको एक बार इसका मोह लग गया फिर तो ई-मेईल, चेटींग, फन, फेसबुक, ब्लॉग सर्च आधी मै कैसे समय निकल जाता है पता ही नहीं चलता है.  हा, ईन्टरनेट ने पूरी दुनियाको अपनी जाल में जकड रखा है. उसके पीछे  उसका मुख्य कारण समय समय पर उसकी गतिशीलता और अधिक से अधिक प्रसारता है. ईन्टरनेट कल्चर एक गतिशील कल्चर है जो समय समय पर अपना रूप बदलता रहा है.  और जिसके कारण आजकी जनरेशन पर उसका प्रभाव देख सकते है. ईन्टरनेटकी विश्वस्तरे फेली हुई ओपन मायाजाल के कारन दुनिया एक छोटे से गावमें  तबदिल हो गई है ऐसा लगता है. आइये नजर करे उसकी सफल  गतिशीलता के कारणों पर.



१. उपयोगकर्ता ईन्टरेकशन और वेब कोम्युनिटी का बढ़ता विकास
ईन्टरनेट पर दिन प्रतिदिन उपयोगकर्ता ईन्टरेकशन के लिए नये नये फीचर्स और  र्सिवस चालु करने में आयी जिसके परिणाम ओनलाईन मीटींगमें  और  संपर्कमें बढ़ोतरी होने लगी. जिसके कुछ नए रुपोका  परिणाम यह र्सिवस है .
ई-मेईल
कागज के पत्र व्यवहारकी जगह  ईन्टरनेट द्वारा पत्र व्यवहार बढ़ने लगा जिसके कारन लोग ई-मेईलसे  एकदूसरे से संपर्क करने लगे.
ओनलाईन चेट
वन-टु-वन अथवा ग्रुप वार्तालाप करके ओनलाईन चेटिंग का उपयोग्कर्तामे क्रेझ बढ़ा. चेट द्वारा युझर्स एकदूसरे के साथ वेबसाईट पर लाईव वार्तालाप करने लगे है .
ईन्स्टन्ट  मेसेजींग
एक प्रकारका ओनलाईन सोफ्टवेर है  जिसमें  वेबसाईट का उपयोग किये बगेर रीयल टाईम चेट कर शकते है. उधाहरण सवरूप  Yahoo – MSN Messenger, GoogleTalk, RediffBol आदि
ईन्टरनेट फोरम
इस र्सिवस के द्वारा लोग स्वतंत्र रूप से वेबसाईट पर अलग अलग विषयो पर चर्चा करी शकते  है .
ओनलाईन मल्टी प्लेयर गेम्स
ओनलाईन मल्टी प्लेयर गेम्स द्वारा युझर्स लाईव एकदूसरे के साथे गेम खेल शकते है .
२. भाषाओका  चित्रण
एक प्रकारके कोम्युनिकेशन का विकास हुआ जिसके द्वारा लोग परस्पर भावनाओ और व्यक्तित्व को  दर्शा शकने लगे.
ईन्टरनेट  निक नाम
ईन्टरनेट पर उपलब्ध र्सिवसोमें अपना निक नेम रखने की सरलता के कारने लोग ईन्टरनेट प्रत्ये अधिक मोहित हुए है.
यूजर्सबार
यह एक प्रकारका चोरस पिक्चर है जिसे उपयोगकर्ता फोरममें  उपयोग कर सकता है. जिसके द्वारा उपयोगकर्ता की रूचि और व्यक्तित्वकी जानकारी मिलती है .
ईन्टरनेट स्लेंग
भावनाओ को कुछ  स्माईलीओ के पिक्चर्स द्वारा पेस करने की सरलता. जेजिसे हम फेसबुक में, चेटींग और ई-मेईलमें बर्बर उपयोग करते है.
३. लोकल और ग्लोबल कोलोबरेशन
यह प्रोजेक्ट मुख्यतः  उपयोगकर्ताके उत्साहके कारन एक स्थायी जगह के आधार रखे बिना शक्य बना

ओपन सोर्स
एक प्रकारके सोफ्टवेर प्रोजेक्ट्स जिसमें  कोइ ओफिशियल मालिक नथी होता , किसी  भी सोफ्टवेर कोड करने के लिए अपना योगदान दे सकते है एव उपयोग कर शकते है .
फलेश मोब
ईन्टरनेट पर एक जातकी ग्रुप एक्टिविटी करनेका आयोजन.
ओनलाईन कोम्युनिटी
एक प्रकारका ओपन प्लेटफोर्म है  जहाँ एकही  प्रोग्राम अथवा र्सिवस जिसे एकही समय पर एक से  अधिक लोग उपयोग कर शके.
४. सूचना देने और लेनेवालों में बढ़ती प्रवृत्ति

ब्लोग
उपयोगकर्ताकी पर्सनल डायरी जिसमे  विभिन विषयो पर चर्चा कर लोगो तक पहुंचा सकते  है .
फीडबेक कोमेन्ट पद्धति
उपयोगकर्ता के पाससे प्रतिभाव लेने की पद्धति जिसे मुख्यतः न्युझ वेबसाईट, ब्लोग और दूसरी साईटमें  उपयोग होता है .
विकी
एक प्रकारकी डेटाबेस मेनेजमेन्ट और  इनसाईक्लोपीडिया
फाईल शेरींग
जिसके द्वारा एक उपयोगकर्ता अपने कोम्प्युटर से फाईल अपलोड कर दूसरे ओनलाईन उपयोगकर्ता तक  पहोंचा शकते है  जिसे डाउनलोड कर सकते है. परंतु बहुत बार सोफ्टवेर, म्युजीक डाउनलोड करना गेरकानूकी होता है .
ई-कोमर्स
ईन्टरनेट द्वारा कोमर्स और  बिजनेस डील्स जिसमे खरीदार और बेचनेवाला ओनलाईन कार्य करते है. जो लोग ट्रेडीशनल बिजनेस नहीं करते है. वे लोग भी E-bay जेसी वेबसाईट द्वारा खरीदी-बिक्री कर शकते है .
ईन्टरनेटकी उपरोक्त सफलताको देखकर लगता है की आने वाले दिनों मै अभी और ईन्टरनेट  अकल्प्य सुविधाओ के द्वारा दुनियाको अधिक सरल  और  आधुनिक बना देंगे .


5 comments:

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

धन्यवाद तकनीकि जानकारी के लिये ।

मैं अपने ब्लाग के लिये करीब-करीब फुल स्क्रीन साईज का ऐसा टेम्पलेट चाहता हूँ जिसमें दांये-बांये दोनों ओर आपके इस ब्लाग के बांई ओर जैसी जगह उपलब्ध हो और बीच की जगह मैटर के लिये भी लगभग पर्याप्त हो । मैं कैसे इसे प्राप्त कर सकता हूँ ?

blogtaknik ने कहा…

सुशिलजी मै आपको एक लिंक दे रहा हू जिस पर क्लिक करके आप वेब साईट जैसा टेम्पलेट डाउनलोड कर सकते है. जिसको आसानी से एडिट किया जा सकता है. और अगर आप एडिट करने के जमेले से बचना कहते हे तो दूसरा टेम्पलेट यहाँ से डाउनलोड करें

Kajal Kumar ने कहा…

समग्र जानकारी के लिए आभार.

@सुशील बाकलीवाल जी
यहां से डाउनलोड कर सकते हैं http://www.ourblogtemplates.com/

बेनामी ने कहा…

मुजे लगता है आगे जाके लोग बच्चे भी ईन्टरनेट से पैदा करेँगे....thenks

paresh das ने कहा…

wah internet

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
| More

हिंदी में लिखें

विजेट आपके ब्लॉग पर